विनम्रता के 14 उदाहरण

विनम्रता एक विशेषता है जिसमें हमारी ताकत और कमजोरियों से अवगत होना और उसके अनुसार कार्य करना शामिल है। यह अभिमान और अहंकार के विपरीत है। और यह समाज में सौहार्दपूर्ण ढंग से सहअस्तित्व का एक मौलिक मूल्य है।

जो लोग विनम्रता से कार्य करते हैं वे विनम्र और सरल होते हैं, उनके पास श्रेष्ठता परिसर नहीं होते हैं और वे अपने आसपास के लोगों का गहरा सम्मान करते हैं। इसलिए यहां विनम्रता के कुछ उदाहरण दिए गए हैं।

यह भी देखें नम्रता क्या है?

जरूरत पड़ने पर मदद मांगें

हम यह सब अपने आप नहीं कर सकते। कई बार हमें अन्य लोगों की सहायता, समर्थन या मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। नम्रता का अर्थ उन अन्य गुणों को भी पहचानना है जिनकी हमारे पास कमी है।

अपनी खुद की सीमाओं को स्वीकार करें

विनम्रता आत्म-ज्ञान में प्रकट होती है, यह जानने में कि हम क्या करने में सक्षम हैं, हम कितनी दूर जा सकते हैं, और हमारी ताकत और कमजोरियां क्या हैं। यह आत्म-जागरूकता विनम्रता का एक बहुत ही महत्वपूर्ण रूप है।

सफलता के सामने विनम्र रहें

हमें अपनी उपलब्धियों पर गर्व नहीं हो सकता। सफलता के सामने विनम्रता का अभ्यास करना महत्वपूर्ण है, न कि अपनी उपलब्धियों के लिए किसी को दोष देना या अहंकारी होना। जीवन उतार-चढ़ाव से भरा है। कभी हम ऊपर होते हैं तो कभी नीचे से पैनोरमा देखना पड़ता है।

विनय भी देखें।

जब हम कुछ नहीं जानते तो स्वीकार करें

हम सब कुछ नहीं जान सकते। कभी-कभी हम अपने आप को उन क्षेत्रों या विषयों में पाते हैं जिनमें हम महारत हासिल नहीं करते हैं, इसलिए इसे पहचानना और किसी और को समझाने या समझने में हमारी मदद करने के लिए कहना महत्वपूर्ण है। कभी-कभी वह जागरूकता जिसे हम नहीं जानते हैं, हमें आगे चलकर और भी बहुत कुछ सीखने के लिए प्रेरित करती है।

गलत होने से डरो मत

हम सब गलत हो सकते हैं। वास्तव में, हम सभी हर समय गलतियाँ करते हैं। गलतियाँ जीवन में शिक्षक हैं, वे हमें महत्वपूर्ण सबक सिखाती हैं और हमें बेहतर बनने में मदद करती हैं।

सीखने के लिए हमेशा तैयार रहें

सीखने की स्थायी इच्छा हमारे बारे में बहुत कुछ कहती है। हम सब कुछ नहीं जान सकते हैं, इसलिए कभी-कभी हमें कुछ चीजों को जानने और खुद को सूचित करने के लिए पढ़ने, परामर्श करने या पूछने की आवश्यकता होती है।

जानिए कैसे जीतना है (और हारना)

आप हमेशा नहीं जीतते, लेकिन आप हमेशा हारते भी नहीं हैं। आपको संतुलन और शील का अभ्यास करना होगा। सफलताएं खुशियां लाती हैं, लेकिन उन्हें अहंकार में तब्दील होने की जरूरत नहीं है। और पराजय कभी-कभी निराशाजनक हो सकती है, लेकिन हमें क्रोध के बहकावे में नहीं आना चाहिए। दोनों ही स्थितियां हमें नम्रता का मूल्य सिखाती हैं: विरोधी का सम्मान करें और हमारे और दूसरे के प्रयास को महत्व दें।

दूसरों की कीमत पहचानो

अन्य लोग जो हमारे जीवन का हिस्सा हैं महत्वपूर्ण हैं। कभी वे हमारे पास पहुंचते हैं, कभी वे हमारा समर्थन या मार्गदर्शन करते हैं, और कभी-कभी उन्हें हमारी जरूरत भी होती है। अपने मूल्य को पहचानना नम्रता में एक मौलिक अभ्यास है।

क्रेडिट साझा करें

कभी-कभी हमें ऐसे कार्य का श्रेय लेने का अवसर मिलता है जिसमें हम अन्य लोगों के साथ मिलकर भाग लेते हैं। हालांकि, क्रेडिट को उन लोगों के साथ साझा करना महत्वपूर्ण है जो इसके लायक भी हैं। न केवल सम्मान से, यह दूसरों के योगदान और मूल्य को महत्व देने का भी एक तरीका है।

आभारी होना

हम कई चीजों के लिए आभारी हो सकते हैं: जीवन, हमारे सामने भोजन की थाली, हमारे आसपास के लोग। एक निश्चित दृष्टिकोण से देखा जाए तो हमारे पास जो कुछ भी है या जो हमारे साथ होता है वह एक उपहार है। कृतज्ञता का निरंतर अभ्यास हमें इसके प्रति जागरूक करता है।

कृतज्ञता भी देखें।

समझौता करने को तैयार रहें

जब कोई किसी चीज़ के बारे में सही होता है, तो यह महत्वपूर्ण है कि हम हार मान लें। हम हमेशा सही नहीं होने जा रहे हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम उन क्षणों को पहचानें जब सबसे समझदार बात यह है कि दूसरे के साथ सहमत होना है।

जानिए कैसे सुनना है

यह महत्वपूर्ण है कि हम हमेशा दूसरों, उनकी इच्छाओं, जरूरतों या आकांक्षाओं को सुनने के लिए तैयार रहें। केवल इसलिए नहीं कि यह लोगों को अधिक गहराई से जानने का एक तरीका है, बल्कि इसलिए कि यह हमें खुद को सीखने की अनुमति देता है। दूसरे के पास योगदान करने के लिए हमेशा वैध चीजें होती हैं, इसलिए हमें उनका सम्मान करना चाहिए और उनकी बात सुननी चाहिए।

जब आवश्यक हो क्षमा करें

कभी-कभी हम गलतियाँ कर सकते हैं या गलत कर सकते हैं, और इस प्रकार हमारे आसपास के लोगों को प्रभावित करते हैं। इसलिए, विनम्र होने का अर्थ यह जानना भी है कि माफी कैसे माँगी जाए, क्योंकि हम सिद्ध नहीं हैं और हम समय-समय पर कुछ गलत कर सकते हैं।

टैग:  अभिव्यक्ति-लोकप्रिय धर्म और आध्यात्मिकता विज्ञान